सचिन तेंदुलकर

अलविदा जर्सी नंबर 10: क्रिकेट का एक अनोखा रिकॉर्ड जो बना सचिन तेंदुलकर के नाम

दस नंबर की जर्सी…मास्टर बलास्टर सचिन तेंदुलकर की पहचान है। उनके रिटायर होने के बाद क्रिकेट के दीवाने इस जर्सी नंबर को मैदान में काफी मिस करते हैं। सचिन और उनके जर्सी नंबर के लिए लोगों की दिवागनी कुछ इस हद तक है कि वो किसी दूसरे खिलाड़ी को इस जर्सी नंबर में नहीं देखना चाहते। इसलिए BCCI ने एक बड़ा फैसला दिया है। BCCI ने निर्देश दिए हैं कि अतंरराष्ट्रीय क्रिकेट में कोई भी भारतीय खिलाड़ी दस नंबर की जर्सी में नहीं खेलेगा। BCCI की तरफ से कहा गया कि जर्सी नंबर एक खिलाड़ी की पहचान होती है। दस नंबर सचिन तेंदुलकर की पहचान है और ये हमेशा उन्हीं की पहचान रहेगी। इसलिए अब ये जर्सी नंबर भी रिटायर कर दी जाएगी।

जौहर करने से पहले रतन सिंह से आखिरी बार क्या बोलीं रानी पद्मावती?

जब अलाउद्दीन की एक ‘शर्त’ के सामने झुक गईं रानी पद्मावती!

रानी पद्मावती ने क्यों उतारा था अपना कंगन…. कैसे ये पहुंचा अलाउद्दीन खिलजी के पास?

इस जर्सी नंबर के चक्कर में हाल ही में सोशल मीडिया पर जमकर बवाल हुआ। श्रीलंका के खिलाफ भारतीय तेज गेंदबाज़ शार्दुल ठाकुर जब  पिछले महीने मैदान में उतरे तो क्रिकेट के दीवानों ने शार्दुल को आड़े हाथों ले लिया। दरअसल शार्दुल की गलती ये थी कि उन्होंने दस नंबर की जर्सी पहन कर खेला था। सोशल मीडिया पर लोगों ने बहुत तेजी से इस बात पर प्रतिक्रियाएं देनी शुरू कर दी थी।

सोशल मीडिया पर लोगों ने लिखा…शार्दुल सचिन बनने की कोशिश कर रहे हैं, दस नंबर की जर्सी सिर्फ सचिन तेंदुलकर की है, दस नंबर की जर्सी सचिन की पर्याय है इसलिए किसी भी खिलाड़ी को ये नहीं पहननी चाहिए। सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाएं तेज़ी से आती रहीं इसी बीच हरभजन सिंह को शार्दुल के बचाव में आना पड़ा।

हरभजन ने लिखा ‘शार्दुल ने दस नंबर की जर्सी पहनकर खेला…लेकिन इसमें उसकी क्या गलती है..उसने हमेशा से इस जर्सी में सचिन तेंदुलकर को खेलते देखा। इस जर्सी को पहनकर खेलना उसका सपना हो सकता है। ये सचिन को सम्मान दर्शाने का भी एक अंदाज़ हो सकता है या फिर संभव है कि दस नंबर शार्दुल के लिए लकी हो ‘

रानी पद्मावती से क्यों नफरत करती थीं राजा रतन सिंह की पहली पत्नी नागमती?

जब एक ‘तोते’ के कहने पर… रतन सिंह ने उठाई रानी पद्मावती पर ‘तलवार’

रानी पद्मावती: एक ‘परछाई’ जिसने दिल्ली के सुल्तान को बना दिया हैवान

इसके बाद शार्दुल ने भी इस जर्सी को पहनने का कारण बताया था। शार्दुल का जन्मदिन 16.10.1991 है। इन सभी का योग 28 है। 2+8= दस होता है, इसके साथ ही ये नंबर खाली था। इसलिए उन्हें ये जर्सी पहनकर खेलने की अनुमति दे दी गई।

हालांकि BCCI के इस आदेश के बाद अंतरराष्ट्रीय मैचों में इस नंबर की जर्सी का इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा। हालांकि ये जर्सी घरेलू मैचों में पहनकर खेली जा सकेगी। IPL की मुंबई इंडियन्स की टीम ने सचिन तेंदुलकर के सन्यास लेने के बाद अपनी टीम की दस नंबर की जर्सी को रिटायर कर दिया था।

सचिन तेंदुलकर की जर्सी का नंबर क्यों था 10?

जर्सी नंबर 10 के पीछे का राज खोलते हुए सचिन ने एक बार बताया था कि उनके नाम को इंग्लिस में पढ़ते हुए टेन आता है (Tendulkar)। इसलिए उन्होने अपने जर्सी का नंबर 10 चुना।

फुटबॉल की तर्ज पर अब क्रिकेट में भी होगी जर्सी रिटायर

खिलाड़ी के साथ उसके जर्सी के रिटायर होने की प्रथा अब तक क्रिकेट में देखने को नहीं मिलती थी। ऐसा फुटबॉल में देखने को मिलता है। फुटबॉल क्लब में बड़े खिलाड़ियों के रिटायर होने पर उनके जर्सी नंबर को भी रिटायर कर दिया जाता है। ऐसे में रिकॉर्ड के शहंशाह सचिन तेंदुलकर की जर्सी ने भी क्रिकेट में एक नया कीर्तिमान बना दिया।

 

Leave a Reply